Gujarat Exclusive > देश-विदेश > अग्निपथ योजना को लेकर छात्रों के विरोध प्रदर्शन के बाद सियासी बयानबाजी तेज

अग्निपथ योजना को लेकर छात्रों के विरोध प्रदर्शन के बाद सियासी बयानबाजी तेज

0
292

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई अग्निपथ योजना को लेकर बिहार के बाद देश के अन्य राज्यों में भी छात्रों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है. उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश के बाद हरियाणा में भी छात्र अग्निवीर योजना के खिलाफ प्रदर्शन कर इसे वापस लेने की मांग कर रहे हैं. जहां एक तरफ छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ इस मामले को लेकर सियासत भी तेज हो गई है.

कांग्रेस सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस मामले को लेकर कहा कि मेरी सरकार से मांग है कि अग्निपथ योजना को तुरंत वापस ले क्योंकि ये ना देश की सुरक्षा के हित में है, ना राष्ट्र हित में और ना युवाओं के भविष्य हित में है. मैं सरकार से आग्रह करता हूं कि आप हर विषय पर राजनीति करें लेकिन फौज पर राजनीति ना करें.

कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम के मुताबिक अग्निपथ’ योजना विवादास्पद है… इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि इस योजना के तहत भर्ती किए गए सैनिक बेहतर प्रशिक्षित और प्रेरित होंगे…हमने सेवानिवृत्त रक्षा अधिकारियों के विचार पढ़े और सुने हैं, लगभग सर्वसम्मति से उन्होंने इसका विरोध किया है.

जहां कांग्रेसी नेता इस योजना का विरोध कर रहे हैं वहीं भाजपा के नेता इसके फायदे गिना रहे हैं. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अग्निपथ योजना से देश के युवाओं को लाभ होगा. प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से इस योजना के लिए संदेश मिल रहे हैं. योजना के तहत नौकरी पाने वाले उत्तराखंड के युवाओं को 4 साल बाद हम प्राथमिकता के आधार पर हर क्षेत्र में नौकरी देंगे.

बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने इस मामले को लेकर कहा कि इस योजना को शायद सही तरीके से नौजवान समझ नहीं पाए हैं, या कहीं न कहीं कोई भ्रम की स्थिति है जिस कारण से समस्याएं उतपन्न हो रही है लेकिन धीरे-धीरे ये भ्रम दूर होगा. आपके (युवा) जीवन में सेवा का अवसर आए इसके लिए केंद्र व राज्य सरकारें गंभीर है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/riot-mamta-banerjee-big-statement/