Gujarat Exclusive > देश-विदेश > मुख्यमंत्रियों संग बैठक में बोले PM मोदी, ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट्स बिगाड़ सकते हैं हालात

मुख्यमंत्रियों संग बैठक में बोले PM मोदी, ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट्स बिगाड़ सकते हैं हालात

0
420

नई दिल्ली: कोरोना के दैनिक मामलों में एक बार फिर दर्ज की जाने वाली वृद्धि ने केंद्र और राज्य सरकारों की चिंता बढ़ा दी है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए देश में कोविड-19 की स्थिति पर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ समीक्षा बैठक की, पीएम ने कहा कि पिछले 2 हफ्तों से मामले जो बढ़ रहे है उससे हमें अलर्ट रहना है.

कोरोना स्थिति पर समीक्षा बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि स्पष्ट है कि कोरोना की चुनौती अभी पूरी तरह टली नहीं है ओमिक्रोन और उसके सब वैरिएंट्स किस तरह गम्भीर परिस्थिति पैदा कर सकते हैं, ये यूरोप के देशों में हम देख सकते हैं. पिछले कुछ महीने में इन वैरिएंट्स से मामले बढ़े हैं हम भारत में कई देशों की तुलना में हालात पर नियंत्रण रखा है. बीते 2 वर्षों में कोरोना को लेकर ये हमारी 24वीं बैठक है, कोरोना काल में जिस तरह केंद्र और राज्यों ने मिलकर काम किया है और जिन्होंने कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई में अहम भूमिका निभाई है मैं सभी कोरोना वॉरियर्स की प्रशंसा करता हूं.

इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि देश में सभी वयस्कों के लिए प्रीकॉशन डोज भी उपलब्ध है. तीसरी लहर के दौरान हमने हर दिन 3 लाख से अधिक केस देखे, हमारे सभी राज्यों ने इन्हें हैंडल भी किया और बाकी सभी सामाजिक, आर्थिक गतिविधियों को भी गति दी. आज भारत के 96% वयस्क आबादी को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है और 15 साल के ऊपर बच्चों को करीब 85% लोगों को दूसरी डोज लग चुकी है. मार्च में हमने 12-14 वर्ष के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरु कर दिया था. कल 6-12 वर्ष के बच्चों के लिए भी को-वैक्सीन टीके की अनुमति मिल गई है.

कोरोना स्थिति पर मुख्यमंत्रियों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा पिछले 2 हफ्तों से मामले जो बढ़ रहे है उससे हमें अलर्ट रहना है. 2 साल के भीतर में देश ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर ऑक्सीजन सप्लाई तक कोरोना से जुड़े हर पक्ष में जो आवश्यक है उसे देने का काम किया है. तीसरी लहर में स्थितियां अनियंत्रित होने की खबर नहीं आई. हमारे वैज्ञानिक और विशेषज्ञ नेशनल और ग्लोबल स्थिति को लगातार मॉनिटर कर रहे हैं. संक्रमण को शुरुआत में ही रोकना हमारी प्राथमिकता पहले भी थी, आज भी यही रहना चाहिए. टेस्ट,ट्रैक, ट्रीट की हमारी स्ट्रैटेजी को भी हमें उतने ही प्रभावी तौर पर लागू करना है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/rajasthan-government-protest-against-temple-demolition/