Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात पर छाया संकट का बादल, मौसम विभाग ने मानसून को लेकर जारी किया बड़ा पूर्वानुमान

गुजरात पर छाया संकट का बादल, मौसम विभाग ने मानसून को लेकर जारी किया बड़ा पूर्वानुमान

0
366

अहमदाबाद: गुजरात के किसानों के लिए हर मौसमी सीजन मुश्किलों से भरता जा रहा है. सर्दी और गर्मी में बेमौसम बारिश के चलते किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है. लेकिन इस साल का मानसून किसानों को सौ फीसदी रुला देगा. गुजरात के किसानों के लिए यह बुरी खबर है. मौसम विभाग के मुताबिक इस साल गुजरात में मानसून कमजोर रहेगा. जून से सितंबर के बीच 35 से 65 फीसदी बारिश का अनुमान है. मेहसाणा में 45 से 65 प्रतिशत बारिश होने की संभावना है. जबकि पाटन, बनासकांठा, साबरकांठा में 35 से 55 फीसदी बारिश का अनुमान है.

अभी से पानी को लेकर दिक्कतें शुरू

गौरतलब है कि गर्मियों में गुजरात में जलस्तर गिर जाता है जिसकी वजह से गर्मी शुरू होते ही लोगों को पानी की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. पानी की मांग को लेकर किसान सड़कों पर उतर रहे हैं. इस बीच आने वाले सीजन में कम बारिश की आशंका से किसान परेशान हो गए हैं. गुजरात में पिछले साल 32.56 इंच के साथ औसतन 98.45 प्रतिशत बारिश हुई थी. ऐसे में अगर इस साल मानसून सीजन में बारिश कम होगी तो लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा. मॉनसून सीजन कमजोर होने की वजह से गर्मी के सीजन में लोगों को जलस्तर में ज्यादा गिरावट से परेशानी बढ़ने की संभावना जताई जा रही है.

भीषण गर्मी पड़ेगी

अगले 5 दिनों में राज्य में एक और गर्मी का दौर देखने को मिलेगा. उत्तर गुजरात, सौराष्ट्र, कच्छ में शनिवार और रविवार को येलो अलर्ट घोषित किया गया है. अहमदाबाद में 20 अप्रैल तक तापमान 43 डिग्री के आसपास रहने का अनुमान है. जिससे आने वाले दिनों में भीषण गर्मी का सामना करना पड़ेगा. इसके अलावा अगले 3 दिनों में तापमान में 2 से 3 डिग्री की बढ़ोतरी होगी. शनिवार को बनासकांठा, सुरेंद्रनगर, राजकोट, कच्छ में येलो अलर्ट घोषित किया गया है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/hardik-patel-aam-aadmi-party-offer/