Gujarat Exclusive > राजनीति > झारखंड में सियासी संकट, महागठबंधन के विधायकों को छत्तीसगढ़ ले जाने की तैयारी

झारखंड में सियासी संकट, महागठबंधन के विधायकों को छत्तीसगढ़ ले जाने की तैयारी

0
159

झारखंड में सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज लगातार दूसरे दिन विधायक दल की बैठक बुलाई है. इस बैठक में महागठबंधन के विधायक यानी राजद और कांग्रेस के विधायकों को भी बुलाया गया है. बैठक में पहुंचे विधायकों की कार में कपड़ों से भरा बैग मिला, जिसके बाद खबर आई कि महागठबंधन के विधायकों को छत्तीसगढ़ भेजा जा सकता है.

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज लगातार दूसरे दिन विधायक दल की बैठक बुलाई. झारखंड के यूपीए विधायकों को छत्तीसगढ़ भेजा जा सकता है. कुछ विधायक बैग और सामान लेकर मुख्यमंत्री आवास पहुंचे हैं. इसे देखते हुए कयास लगाए जा रहे हैं कि विधायकों को उन राज्यों में स्थानांतरित किया जा सकता है जहां यूपीए की मजबूत सरकार है. ऐसे में छत्तीसगढ़ में ही विधायकों के पलायन को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं.

झारखंड के मंत्री बन्ना गुप्ता ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि हम जनता के लिए काम कर रहे हैं और उसी से बीजेपी घबराई हुई है. जब राज्य विकास की ओर जा रहा है तो बीजेपी के पेट में दर्द हो रहा है और दर्द है तो वह किसी भी प्रकार से यहां की सरकार को गिराना चाहती है. हम यहां की सरकार को बचाना चाहते हैं क्योंकि जनता ने यहां की सरकार को जो बहुमत दिया है उसकी भाजपा अपमान कर रही है.

वहीं इस मामले को लेकर झारखंड कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की ने कहा कि झारखंड प्रदेश की राजनीति अन्य प्रदेशों से बिल्कुल अलग है. BJP यहां की राजनीति को दूषित करने की कोशिश कर रही है. चुनाव आयोग का जो रिपोर्ट बंद लिफाफे में आता है जो कि खुला भी नहीं है लेकिन उससे पहले ही सब लीक हो जा रहा है. गठबंधन सरकार के हालिया फैसलों से आदिवासी क्षेत्रों में इनकी(BJP) जमीन उखड़ जाएगी इसलिए इनमें छटपटाहट है. ये जब से गठबंधन की सरकार बनी है तब से इस सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहें. जब कभी यहां का CM आदिवासी से बना है तो उसका कार्यकाल पूरा होने नहीं दिया गया है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/munawwar-farooqui-delhi-show-canceled/