Gujarat Exclusive > राजनीति > सपा का पत्र महज औपचारिक स्वतंत्रता का एक प्रमाण पत्र है: शिवपाल यादव

सपा का पत्र महज औपचारिक स्वतंत्रता का एक प्रमाण पत्र है: शिवपाल यादव

0
171

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की सियासत में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का सियासी संकट गहराता जा रहा है. एक तरफ सहयोगी दल सपा से दूर जा रहे हैं तो दूसरी तरफ मुस्लिम संगठन भी उनके खिलाफ खड़े हो गए हैं. महान दल के बाद अब ओम प्रकाश राजभर और शिवपाल यादव ने भी सपा से अलग हो गए हैं.

दरअसल समाजवादी पार्टी ने बीते दिनों प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव और SBSP प्रमुख ओ.पी. राजभर को पत्र जारी करते हुए कहा था कि अगर आपको लगता है, कहीं ज्यादा सम्मान मिलेगा तो वहां जाने के लिए आप स्वतन्त्र हैं. इस पत्र के बाद सबसे पहले ओपी राजभर की प्रतिक्रिया आई थी. लेकिन अब शिवपाल यादव ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के चीफ शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि औपचारिक स्वतंत्रता मुझे दे दी गई है मुझे लगता है कि ये अपरिपक्वता है. अगर यही था तो मुझे विधान मंडल दल से निकाल देते इस पत्र की क्या ज़रूरत है क्योंकि संविधान के अनुसार हम सब स्वतंत्र हैं.

इसके अलावा शिवपाल सिंह यादव ने सीएम योगी की तारीफ करते हुए कहा कि वह हमेशा क्षेत्र की समस्याओं के लिए समय देते हैं और मिलते रहते हैं. लेकिन अखिलेश की तरफ से कभी पूछा नहीं जाता. हमने तो चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी का सिंबल लिया अपनी पार्टी छोड़ी और पूरी मेहनत की समाजवादी पार्टी के लिए और उसके बाद यह पत्र जारी किया जाता है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/rajya-sabha-19-opposition-mps-suspended/