Gujarat Exclusive > गुजरात > SIT के हलफनामे में बड़ा खुलासा, अहमद पटेल के इशारे पर तिस्ता को मिला था लाखों रुपया

SIT के हलफनामे में बड़ा खुलासा, अहमद पटेल के इशारे पर तिस्ता को मिला था लाखों रुपया

0
284

अहमदाबाद: तीस्ता सीतलवाड़ मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है. गुजरात एसआईटी ने सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के खिलाफ अपने हलफनामे में बड़ा खुलासा कर हड़कंप मचा दिया है. कोर्ट में 12 पन्नों के हलफनामे में मोदी सरकार को साजिश के तहत गिराने का खुलासा किया है. यह हलफनामा विशेष लोक अभियोजक अमित पटेल ने कोर्ट में पेश किया है. जिसमें कहा गया है कि तीस्ता सीतलवाड़ ने पैसे मांगे और आर्थिक लाभ लिया. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और दिवंगत अहमद पटेल से भी मुलाकात का जिक्र है. इसमें कहा गया है कि गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री और मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गलत तरीके से फंसाया गया है. इस साजिश के चलते तीस्ता सीतलवाड़ और श्री कुमार को जमानत नहीं दी जानी चाहिए.

आपको बता दें कि सीतलवाड़, सेवानिवृत्त डीजीपी आरबी श्रीकुमार और पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट पर 2002 के गुजरात दंगों से जुड़े एक मामले में सबूत गढ़ने और साजिश रचने का आरोप है. गुजरात पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि 15 जुलाई को तीस्ता सीतलवाड़ की जमानत याचिका के खिलाफ दायर एसआईटी के हलफनामे में एक बड़ा खुलासा हुआ है. तीस्ता सीतलवाड़ और पूर्व आईपीएस अधिकारी श्रीकुमार को फर्जी दस्तावेज बनाकर कानून के साथ खिलवाड़ करने के आरोप में गिरफ्तार किए जाने के बाद, तीस्ता ने अहमदाबाद के सिविल और सत्र न्यायालय में जमानत याचिका दायर की थी.

हलफनामे में कहा गया है कि सीतलवाड़ ने कथित तौर पर शुरू से ही साजिश के तहत काम करना शुरू कर दिया था. क्योंकि गोधरा ट्रेन कांड के कुछ दिनों बाद ही उन्होंने दिवंगत अहमद पटेल से मुलाकात की थी और पहली बार 5 लाख रुपये लिए थे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के निर्देश पर एक गवाह ने उनको पैसा दिया था. अदालत के समक्ष दायर हलफनामे में कहा गया है कि उसके बाद पटेल और सीतलवाड़ के बीच शाहीबाग के सरकारी सर्किट हाउस में मिले, जहां गवाह ने पटेल के निर्देश पर सीतलवाड़ को 25 लाख रुपये दिए. रिपोर्ट में कहा गया है कि बैठक में दी गई नकदी किसी राहत कोष का हिस्सा नहीं थी.

हलफनामे में दावा किया गया है कि सीतलवाड़ कथित तौर पर गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री सहित गुजरात राज्य के कई अधिकारियों और अन्य निर्दोष व्यक्तियों को फंसाने और उन पर मुकदमा चलाने के लिए एक राजनीतिक दल से वित्तीय और कई अन्य लाभ प्राप्त किया था.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/india-corona-update-news-419/