Gujarat Exclusive > राजनीति > देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया: राहुल गांधी

देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया: राहुल गांधी

0
391

नई दिल्ली: पिछले साल किसानों ने तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ 26 नवबंर से विरोध प्रदर्शन शुरू किया था. किसान नेता लगातार कानूनों को वापस लेने की मांग कर रही थी. लेकिन मोदी सरकार लगातार यह बताने की कोशिश कर रही थी कि तीनों कानून किसानों के लिए फायदेमंद साबित होंगे. आरपार की लड़ाई का मन बनाने वाले किसानों के हाथ आज बड़ी जीत लगी है. पीएम मोदी ने किसान आंदोलन को वापस लेने का ऐलान किया है. इस मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला है.

कृषि कानूनों को वापस लेने के ऐलान के बाद सियासी बयानबाजी तेज हो गई है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले को लेकर ट्वीट कर लिखा “देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया. अन्याय के खिलाफ़ ये जीत मुबारक हो! जय हिंद, जय हिंद का किसान!”

इससे पहले वायनाड में केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा राहुल गांधी ने कहा था देशभर में कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ प्रदर्शन चल रहा है. मैं उनके प्रदर्शन को पूरी तरह समझता हूं. ये कृषि क़ानून मूल रूप से भारतीय कृषि क्षेत्र की रीढ़ को नष्ट कर देंगे. हमारा कृषि क्षेत्र किसानों की बजाय 2-3 बड़े उद्योगपतियों के हाथ में चला जाएगा.

राष्ट्रपति से मिले राहुल गांधी 

कृषि कानूनों के खिलाफ राहुल गांधी ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर दो करोड़ किसानों के हस्ताक्षरों के साथ ज्ञापन सौंपते हुए इस कानून को रद्द करने की एक बार फिर से मांग थी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करने के बाद राहुल गांधी ने मीडिया को संबोधित करते हुए मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला था. उन्होंने कहा कि हम राष्ट्रपति से मिलने के बाद इन कानूनों से किसानों को कैसे नुकसान होने वाला है इसे बताते हुए कानून को रद्द करने की मांग की. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि देश को दिख रहा है कि कृषि कानून किसानों के खिलाफ है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/india-corona-update-news-222/