Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद: 25 हजार से ज्यादा लोगों को डेढ़ साल से नहीं मिल रहा पक्का लाइसेंस

अहमदाबाद: 25 हजार से ज्यादा लोगों को डेढ़ साल से नहीं मिल रहा पक्का लाइसेंस

0
305

अहमदाबाद: राज्य में 36 आरटीओ और एआरटीओ में 1.58 लाख लाइसेंस डिस्पेच करना बाकी हैं. जिसकी वजह से 25 हजार से ज्यादा अहमदाबादियों को पिछले डेढ़ साल से लाइसेंस नहीं मिल रहा है. लर्निंग लाइसेंस के छह महीने की अवधि के दौरान आवेदक वाहन का दो से तीन बार ड्राइविंग टेस्ट देते हैं. यदि वे असफल होते हैं, तो फिर से ड्राइविंग टेस्ट देते हैं ताकि भारी जुर्माना से बचा जा सके.

राज्य सरकार द्वारा की गई व्यवस्था के चलते पक्के लाइसेंस, आधार कार्ड आधारित नवीनीकरण, डुप्लीकेट और नाम और पता परिवर्तन की आवश्यकता जैसी चीजों को करवाने के लिए आरटीओ ऑफिस आने की जरूरत नहीं होती है. ऐसे आवेदक आरटीओ में ऑनलाइन आवेदन करते हैं. लेकिन आवेदन करने के बाद आवेदकों को कम से कम एक से चार महीने तक पक्का लाइसेंस नहीं मिलता है. लाइसेंस देने वाली कंपनी के पिछले डेढ़ साल से खराब प्रदर्शन से आवेदक परेशान हैं.

राज्य आरटीओ के पास बिना प्रेषण के 1,57,650 पक्के लाइसेंस लंबित हैं. नतीजतन लोगों को ट्रैफिक पुलिस के उत्पीड़न से लेकर हादसों में वाहन बीमा का इस्तेमाल करने तक कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

गौरतलब है कि देश में नया ट्राफिक कानून लागू होने के बाद लोग भारी जुर्माना से बचने के लिए लाइसेंस और गाड़ी के कागजात बनवाने से पीछे नहीं हट रहे. ऐसे में सबसे भारी जुर्माना बिना लाइसेंस गाड़ी चलाना है इसलिए जो लोग बिना लाइसेंस अभी तक गाड़ी चला रहे थे वह अपना लाइसेंस बनवा रहे जिसकी वजह से पिछले एक महीने से आरटीओ आफिस में लोगों की भीड़ देखने को मिलती है. लेकिन लोग अब जिस परेशानी का शिकार हो रहे हैं उससे उनको निजात कब मिलेगा?

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/ahmedabad-youth-marriage-hoax-rape/