Gujarat Exclusive > देश-विदेश > बीरभूम में हिंसा के बाद स्थानीय लोगों का पलायन, केंद्र ने राज्य सरकार से तलब की रिपोर्ट

बीरभूम में हिंसा के बाद स्थानीय लोगों का पलायन, केंद्र ने राज्य सरकार से तलब की रिपोर्ट

0
402

पश्चिम बंगाल के बीरभूम में हिंसा के बाद स्थानीय लोग अपने घरों को छोड़कर दूसरे स्थान जा रहे हैं. एक महिला ने कहा कि सुरक्षा के मद्देनज़र हम घरों को छोड़कर जा रहे है, जिनकी मृत्यु हुई उनमें से एक मेरा देवर था. पुलिस ने किसी भी तरह की सुरक्षा नहीं दी, सुरक्षा होती तो ये घटना न घटती. वहीं गृह मंत्रालय ने बीरभूम की घटना पर पश्चिम बंगाल सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. जबकि CID ​​की टीम बीरभूम की घटना की जांच के लिए पश्चिम बंगाल पहुंच गई है. इस घटना में घरों में आग लगने के बाद 7-8 लोगों की मृत्यु हो गई थी.

पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांता मजूमदार ने इस मामले को लेकर अमित शाह से मुलाकात की, उसके बाद उन्होंने कहा कि हम 7 सांसदों की टीम लेकर गृह मंत्री अमित शाह जी से मिलने गए थे. उन्होंने हमें आश्वासन दिया है कि वो 72 घंटे में घटना की रिपोर्ट लेंगे. बीरभूम में जो घटना घटी है वो मानवता को शर्मशार करने वाली घटना है. पश्चिम बंगाल में बार-बार ऐसी घटनाएं हो रही हैं इसलिए कानून व्यवस्था का संज्ञान लेने के लिए गृह मंत्रालय से एक टीम जाएगी और निरीक्षण करेगी.

बीरभूम में हुई हिंसा पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने के बाद भाजपा नेता लॉकेट चटर्जी ने कहा कि हम जानते हैं कि 10-12 घरों में आग लगाकर जला दिया गया. स्थानीय लोग बता रहे हैं कि वहां पर 15-20 लोगों की मृत्यु हुई हैं. हम मामले में CBI जांच चाहते हैं.

वहीं इस मामले को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में आज मानव राज नहीं दानव राज चल रहा है. 10 महिलाओं और 2 बच्चों को आग के हवाले करके, जिंदा जलाया गया. इससे ज़्यादा घिनौना और क्या हो सकता है. वहां पर पुलिस के सामने यह घटना घटी है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/big-action-of-uddhav-thackeray-relative-ed/