Gujarat Exclusive > देश-विदेश > द्रौपदी मुर्मू चुनाव जीतकर बनाया पांच रिकॉर्ड, देश को मिला पहला अदिवासी राष्ट्रपति

द्रौपदी मुर्मू चुनाव जीतकर बनाया पांच रिकॉर्ड, देश को मिला पहला अदिवासी राष्ट्रपति

0
293

नई दिल्ली: 15वें राष्ट्रपति के चुनाव में एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने बड़ी जीत हासिल की है. संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने अपनी हार स्वीकार कर ली है और मुर्मू को शुभकामनाएं दी हैं. द्रौपदी मुर्मू देश के सर्वोच्च पद तक पहुंचने वाली सबसे कम उम्र की आदिवासी महिला बन गई हैं. इस जीत के साथ उन्होंने इतिहास रच दिया है.

आइए जानते हैं द्रौपदी मुर्मू की जीत से कौन से पांच रिकॉर्ड बने

देश में वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और केआर नारायणन के रूप में दो दलित राष्ट्रपति रहे हैं. लेकिन द्रौपदी मुर्मू सर्वोच्च पद पर पहुंचने वाली देश की पहली आदिवासी नेता हैं. आज तक देश में कोई भी आदिवासी प्रधानमंत्री या गृह मंत्री नहीं रहा है. ओडिशा में जन्मी द्रौपदी मुर्मू ने 2015 से 2021 तक झारखंड की राज्यपाल के रूप में कार्य किया. झारखंड में अपना कार्यकाल पूरा करने वाली पहली महिला राज्यपाल थीं.

सबसे युवा राष्ट्रपति

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को हुआ था. 25 जुलाई को उनकी उम्र 64 साल 1 महीने 8 दिन होगी. द्रौपदी मुर्मू अब देश की सबसे युवा राष्ट्रपति होंगी. इससे पहले यह रिकॉर्ड नीलम संजीव रेड्डी के नाम था. जब वे राष्ट्रपति बनीं तब उनकी आयु 64 वर्ष दो महीने 6 दिन थी. राष्ट्रपति बनने वाले सबसे उम्रदराज व्यक्ति का नाम केआर नारायणन है. वह 77 साल 5 महीने 21 दिन की उम्र में राष्ट्रपति बने थे.

स्वतंत्र भारत में जन्म लेने वाली पहली राष्ट्रपति

द्रौपदी मुर्मू स्वतंत्र भारत में जन्म लेने वाली पहली राष्ट्रपति होंगी. वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का जन्म 1 अक्टूबर 1945 को हुआ था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को हुआ था. वह स्वतंत्र भारत में जन्म लेने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं.

ओडिशा से मिला देश को पहला राष्ट्रपति

देश के अब तक 14 राष्ट्रपतियों में से 7 दक्षिण भारत से थे. डॉ. राजेंद्र प्रसाद बिहार से दो बार राष्ट्रपति रहे. द्रौपदी मुर्मू इस सर्वोच्च पद पर पहुंचने वाली ओडिशा की पहली नेता हैं. वह देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति हैं. इससे पहले 2007 में, प्रतिभा देवी सिंह पाटिल पहली महिला राष्ट्रपति बनीं थी.

राष्ट्रपति बनने वाली पहली पार्षद

द्रौपदी मुर्मू पहली नेता हैं जो राष्ट्रपति बनने से पहले पार्षद रह चुकी हैं. द्रौपदी मुर्मू सबसे पहले एक शिक्षिका थीं. इसके बाद उन्होंने राजनीति में प्रवेश किया और 1997 में एक पार्षद के रूप में चुनी गईं. तीन साल बाद वे विधानसभा पहुंची, वह ओडिशा सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. वह राज्यपाल बनने वाली देश की पहली आदिवासी महिला थीं.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/india-president-oath-25-july-facts/