Gujarat Exclusive > राजनीति > कासगंज केस: विपक्ष ने योगी सरकार को घेरा, प्रियंका गांधी ने कहा- रक्षक बने भक्षक

कासगंज केस: विपक्ष ने योगी सरकार को घेरा, प्रियंका गांधी ने कहा- रक्षक बने भक्षक

0
141

लखनऊ: पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कासगंज में अल्ताफ़ अहमद नामक युवक की पुलिस की हिरासत के दौरान मौत हो गई थी. युवक की मौत के मामले ने सियासी तूल पकड़ लिया है. 21 साल के अल्ताफ़ अहमद के पिता ने पुलिस पर उनके बेटे को मारने का आरोप लगाया है. मृतक के पिता ने कहा कि मुझे डॉक्टरों ने बताया कि आपके बच्चे ने फांसी लगाई है. मेरे सामने पुलिसकर्मी उसे इलाज के लिए लाए आखिर में वह नहीं बचा. मैं कार्रवाई से संतुष्ट नहीं हूं.

कासगंज में पुलिस ने एक युवक को पूछताछ के लिए थाने पर बुलाया था. लेकिन 9 नवंबर को उसकी पुलिस कस्टडी में मौत हो गई. इस मामले को लेकर विपक्ष ने योगी सरकार को घेरा है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले को लेकर एक छोटा सा ट्वीट कर सवाल किया कि “क्या उत्तर प्रदेश में मानवाधिकार नाम की कोई चीज़ बची है?”

वहीं इस मामले को लेकर बसपा सुप्रीमो और यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने ट्वीट कर लिखा “कासगंज में पुलिस कस्टडी में एक और युवक की मौत अति-दुखद व शर्मनाक. सरकार घटना की उच्चस्तरीय जाँच कराकर दोषियों को सख़्त सजा दे तथा पीड़ित परिवार की मदद भी करे. यूपी सरकार आए दिन कस्टडी में मौत रोकने व पुलिस को जनता की रक्षक बनाने में विफल साबित हो रही है यह अति-चिन्ता की बात.”

इस मामले को लेकर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि कासगंज में अल्ताफ, आगरा में अरुण वाल्मीकि, सुल्तानपुर में राजेश कोरी की पुलिस कस्टडी में मौत जैसी घटनाओं से साफ है कि रक्षक भक्षक बन चुके हैं. उप्र पुलिस हिरासत में मौत के मामले में देश में सबसे ऊपर है. भाजपा राज में कानून व्यवस्था पूरी तरह चौपट है. यहां कोई भी सुरक्षित नहीं है.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/kangana-india-independence-controversial-statement/