Gujarat Exclusive > देश-विदेश > ‘AAP’ के नारे की तरह केजरीवाल के संपत्ति का ग्राफ, 50 फीसद से ज्यादा हुई वृद्धि

‘AAP’ के नारे की तरह केजरीवाल के संपत्ति का ग्राफ, 50 फीसद से ज्यादा हुई वृद्धि

0
347

‘अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल’, तीसरी बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में कामयाबी हासिल करने के मकसद को लेकर आम आदमी पार्टी ने ये नारा दिया है. लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नामांकन दाखिल करने के दौरान जो एफिडेविट पेश किया है उसमें अपनी कुल संपत्ति 3.40 करोड़ बताई है. इस लिहाज से देखा जाए तो बीते पांच सालों में केजरीवाल की संपत्ति में 50 फीसदी से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है.

AAP के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल नई दिल्ली विधानसभा सीट से एक बार फिर से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. कामकाज के लिहाज से ये पांच साल कैसे बीते और केजरीवाल दिल्लीवालों के भरोसे पर कितना खरा उतर पाये इसका जवाब जनता 8 फरवरी को देगी और 11 फरवरी को आने वाले चुनाव परिणाम में साफ हो जाएगा कि केजरीवाल लोगों के भरोसे पर कितना खरे उतर पाये हैं. लेकिन केजरीवाल की संपत्ति में होने वाली वृद्धि के बाद जरुर लोग तरह-तरह के सवाल खड़ा कर रहे हैं.

केजरीवाल के नामांकन में दाखिल हलफनामे के अनुसारा, कुल 3.4 करोड़ रुपये की संपत्ति बताई है, जो 2015 से 1.3 करोड़ ज्यादा है. 2015 में होने वाले विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल ने अपनी संपत्ति की कीमत 2.1 करोड़ बताई थी. अब उनकी यह संपत्ति बढ़कर 3.4 करोड़ रुपये की हो गई है. यानी पांच साल मुख्यमंत्री रहने के बाद अरविंद केजरीवाल की कुल आय में 1 करोड़ 30 लाख का इजाफा हुआ है. इतना ही नहीं 2015 में केजरीवाल के पास 2 लाख 26 रुपये कैश था, जो बढ़कर 2020 में 9 लाख 65 हजार हो गया है. जबकि अचल संपत्ति की बात की जाए तो केजरीवाल की अचल संपत्ति की कीमत 2015 में 92 लाख रुपये थी, जो अब बढ़कर एक करोड़ 77 लाख हो गई है. यानी अरविंद केजरीवाल के पास कैश भले ही ज्यादा न हो लेकिन उनकी अचल संपत्ति की कीमत में 85 लाख का इजाफा हुआ है.