Gujarat Exclusive > देश-विदेश > साल 2021 में 1.5 लाख से ज्यादा लोगों ने त्यागी भारतीय नागरिकता, सरकार ने संसद में दिया जवाब

साल 2021 में 1.5 लाख से ज्यादा लोगों ने त्यागी भारतीय नागरिकता, सरकार ने संसद में दिया जवाब

0
229

नई दिल्ली: पिछले कुछ सालों में देश के नागरिकों में नागरिकता छोड़ने का चलन बढ़ा है. साल 2021 में कितने भारतीय नागरिकों ने देश की नागरिकता छोड़कर दूसरे देश की नागरिकता अपना ली है, संसद में दिए गए जवाब ने चौका दिया है. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने एक लिखित सवाल के जवाब में संसद को बताया कि साल 2021 में कुल 1 लाख 63 हजार 370 लोगों ने भारत की नागरिकता छोड़कर दूसरे देश की नागरिकता अपना ली है.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने सदन को जानकारी देते हुए कहा कि साल 2019 में यह आंकड़ा एक लाख 44 हजार 17 था. सरकार द्वारा अपने जवाब में प्रस्तुत 123 देशों की कुल सूची में 6 देश ऐसे हैं जिनमें भारतीय नागरिकता छोड़ने के बाद वर्ष 2021 में किसी भी भारतीय ने वहां की नागरिकता नहीं ली. सबसे खास बात यह है कि 2019 में एक भी भारतीय ने भारत की नागरिकता नहीं छोड़ी और पाकिस्तान की नागरिकता नहीं अपनाई.

साल 2021 में 41 भारतीयों ने ली पाकिस्तानी नागरिकता
जहां साल 2019 में किसी भी भारतीय ने पाकिस्तान की नागरिकता नहीं ली थी. वहीं 2021 में 41 भारतीयों ने पाकिस्तान की नागरिकता अपना ली. जबकि साल 2020 में पाकिस्तान की नागरिकता लेने वाले भारतीयों की संख्या सिर्फ 7 थी. सवाल में सरकार से इसका कारण भी पूछा गया, जिस पर सरकार ने जवाब दिया कि ऐसी सभी नागरिकता निजी कारणों से छोड़ी गई थी.

भारतीयों में सबसे लोकप्रिय बना हुआ यह देश
भारत छोड़कर दूसरे देशों में जाने वाले भारतीयों की शीर्ष पसंद अमेरिका है, उसके बाद ऑस्ट्रेलिया का स्थान आता है. उसके भारतीय कनाडा को चुन रहे हैं. चौथे नंबर पर भारतीय ब्रिटेन को रहने के लिए चुन रहे हैं. लेकिन सवाल यह उठता है कि मोदी सरकार जब दूसरे देश के लोगों को अपनाने के लिए कानून बना रही है तो फिर अपनो को रोका क्यों नहीं जा रहा है. आखिर ऐसा क्या हो गया कि लोग इतनी बड़ी संख्या में हर साल भारतीय नागरिकता को त्याग रहे हैं.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/sanjay-singh-statement-rajnath-singh-counterattack/