Gujarat Exclusive > देश-विदेश > औरंगजेब ने तलवार के दम पर सभ्यता बदलने की कोशिश की, पढ़े PM मोदी के भाषण की बड़ी बातें

औरंगजेब ने तलवार के दम पर सभ्यता बदलने की कोशिश की, पढ़े PM मोदी के भाषण की बड़ी बातें

0
624

उत्तर प्रदेश: वाराणसी में प्रधानमंत्री मोदी ने काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण किया. पीएम मोदी ने मंदिर के अनावरण के बाद वहां उपस्थित मेहमानों सहित पूरे देश को संबोधित किया. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि काशी के सभी बंधुओं के साथ बाबा विश्वनाथ के चरणों में हम नमन करते हैं… हमारे पुराणों में कहा गया है कि जैसे ही कोई काशी में प्रवेश करता है, सारे बंधनों से आज़ाद हो जाता है. अभी मैं बाबा के साथ साथ नगर कोतवाल कालभैरव जी के दर्शन करके भी आ रहा हूँ, देशवासियों के लिए उनका आशीर्वाद लेकर आ रहा हूँ. काशी में कुछ भी खास हो, कुछ भी नया हो, उनसे पूछना आवश्यक है. मैं काशी के कोतवाल के चरणों में भी प्रणाम करता हूँ.

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण करने के बाद पीएम मोदी ने कहा कि विश्वनाथ धाम का ये पूरा नया परिसर एक भव्य भवन भर नहीं है, ये प्रतीक है, हमारे भारत की सनातन संस्कृति का, ये प्रतीक है हमारी आध्यात्मिक आत्मा का, ये प्रतीक है भारत की प्राचीनता का, परम्पराओं का, भारत की ऊर्जा का, गतिशीलता का. पहले यहां जो मंदिर क्षेत्र केवल तीन हज़ार वर्ग फीट में था, वो अब करीब 5 लाख वर्ग फीट का हो गया है. अब मंदिर और मंदिर परिसर में 50 से 75 हज़ार श्रद्धालु आ सकते हैं यानि पहले मां गंगा का दर्शन-स्नान और वहां से सीधे विश्वनाथ धाम.

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं आज हर उस श्रमिक भाई-बहनों का भी आभार व्यक्त करना चाहता हूं जिनका पसीना इस इस भव्य परिसर के निर्माण में बहा है. कोरोना के इस विपरित काल में भी उन्होंने यहां पर काम रुकने नहीं दिया. हमारे कारीगर, हमारे सिविल इंजीनयरिंग से जुड़े लोग, प्रशासन, वो परिवार जिनके यहां घर थे सभी का मैं अभिनंदन करता हूं. इन सबके साथ यूपी सरकार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी अभिनंदन करता हूं जिन्होंने काशी विश्वनाथ धाम परियोजना को पूरा करने के लिए दिन-रात एक कर दिया.

अपने संबोधन में पीएम ने आगे कहा कि आतातायियों ने इस नगरी पर आक्रमण किए, इसे ध्वस्त करने के प्रयास किए. औरंगजेब के अत्याचार, उसके आतंक का इतिहास साक्षी है. जिसने सभ्यता को तलवार के बल पर बदलने की कोशिश की, जिसने संस्कृति को कट्टरता से कुचलने की कोशिश की. लेकिन इस देश की मिट्टी बाकी दुनिया से कुछ अलग है. यहाँ अगर औरंगजेब आता है तो शिवाजी भी उठ खड़े होते हैं. अगर कोई सालार मसूद इधर बढ़ता है तो राजा सुहेलदेव जैसे वीर योद्धा उसे हमारी एकता की ताकत का अहसास करा देते हैं.

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/who-omicron-variant-new-revealed/