Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद: रिमांड होम में 17 साल के किशोर की मौत, परिवार ने पुलिस यातना का लगाया आरोप

अहमदाबाद: रिमांड होम में 17 साल के किशोर की मौत, परिवार ने पुलिस यातना का लगाया आरोप

0
946

एक 17 वर्षीय किशोर की मौत के बाद उसके परिवार वालों ने अहमदाबाद के इसानपुर पुलिस (Police) और अधिकारियों पर रिमांड होम में बच्चे पर यातना (Torture ) का आरोप लगाया है. किशोर को एक झगड़े में शामिल होने के कारण गिरफ्तार किया गया था.

वहीं पुलिस (Police) ने इन आरोपों का खंडन किया है और कहा है कि पांच दिन पहले उन्होंने उस लड़के की मां के सामने अदालत में पेश किया था. तब कोर्ट ने उसकी जमानत याचिका खारिज करने के बाद उसे रिमांड होम में भेज दिया था.

यह भी पढ़ें: बाहर के लोगों को जम्मू-कश्मीर की जमीन का मालिकाना हक देना अस्वीकार: उमर अब्दुल्ला

मारपीट के बाद गिरफ्तारी

पुलिस (Police) ने 17 वर्षीय ऋतिक परमार को मारपीट के मामले में शिकायत के बाद हिरासत में लिया था. उस लड़के का कोरोना टेस्ट भी हुआ था. बाद में उसे 23 अक्टूबर को जुवेनाइल कोर्ट में पेश किया गया जहां उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी गई. बाद में पुलिस (Police) ने उसे रिमांड होम में भेज दिया था. मंगलवार की सुबह परिवार को सूचना मिली कि बच्चे की तबीयत खराब हो गई है. जब तक परिवार रिमांड होम पहुंचा, तब तक ऋतिक की मौत हो चुकी थी.

आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज

शाहपुर के पुलिस (Police) इंस्पेक्टर आरके चुडासमा ने कहा कि फिलहाल इस मामले के संबंध में आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने कहा कि किशोर का शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है जो डॉक्टरों के एक पैनल द्वारा किया जाएगा. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

परिवार ने लगाया पुलिस यातना का आरोप

ऋतिक के पिता अरविंद ने कहा कि पुलिस ने 22 अक्टूबर को उनके बेटे को आधार कार्ड के साथ पुलिस (Police) स्टेशन बुलाया था. उन्होंने फिर अगले दिन उसे बुलाया और इसबार उनकी पत्नी बेटे के साथ गई. उन्होंने कहा कि पुलिस ने उनके बेटे को पीटा था और उसे रिमांड होम भेज दिया था जहां उसे फिर से यातना दी गई थी.

वहीं इसानपुर के पुलिस (Police) इंस्पेक्टर जेएम सोलंकी ने कहा कि ऋतिक को दो घंटे के लिए पुलिस स्टेशन में हिरासत में रखा गया था और तब उसकी मां भी वहां मौजूद थी. चूंकि कोर्ट ने उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी, इसलिए हमने उसे हिरासत में ले लिया था और उसे रिमांड होम भेज दिया था. उन्होंने कहा कि लड़के को पीटने का आरोप गलत है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

https://archivehindi.gujaratexclsive.in/corona-infected-ramdas-athawale/